m

m
सूर्योदय

Monday, March 20, 2017

व्यथा और मनोदशा

पत्ता-पत्ता सूख गया
तना-तना है तार हुआ।
फिर भी सत्तालोलुपता में
मेरा मन सस्ता हो बेजार हुआ।।

No comments: