m

m
सूर्योदय

Monday, March 20, 2017

घोंसला वो बनाती थीं

तिनका जोड़कर घोंसला वो बनाती थी चुगतीथी दानें आँगन से खलिहान से खेतसे सुबह-दोपहर-शाम उसकी चहँक दूर करती थी नीरवता और एकाकीपन

No comments: