m

m
सूर्योदय

Monday, March 20, 2017

कलरव खोजते हुए

बहारें बीत गयीं कलरव खोजते हुए छज्जों को अपना झुकना बेमानी लगने लगा आँगनमें पड़ा अक्षत अछूता रह गया गौरैया आयेगी ये सपना लगने लगा

No comments: