m

m
सूर्योदय

Monday, March 20, 2017

अब सूखेगीं नहीं नदियाँ

वो कोई और दिन थे
जब सैफई पर जाकर
सिमट जाती थी नदियाँ।
सूख जाता था पानी
सैफई को सींचकर।
अब बीत गये वो दिन
अब अपने-अपने गंतव्य को
पहुँचेगीं नदियाँ
अपने हिस्से के पानी से भरी हुयी।
अब सूखेगीं नहीं
बस जमीं का टुकड़ा सींचकर
क्योंकि अब उन्हें सींचना है
सोखाना नहीं स्वयं को।

No comments: