m

m
सूर्योदय

Monday, March 20, 2017

आओ चलें

आओ चलें
उस क्षितिज की ओर
जहाँ
दिशायें अरुणाभ हैं,
रश्मियाँ हैं निष्कल।
अवनि अम्बर के
स्पर्श को विकल।
भास्वर शुक्ल
अभास्वर निर्मल।

No comments: