m

m
सूर्योदय

Saturday, July 16, 2016

हम चन्दन हैं

हम चन्दन हैं
तुम चन्दन हो
हम-तुम दोनों चन्दन हैं।
पर यह भुजंग सरीखा कौन खड़ा है
जिसने हमको आधार बना
वैमनस्य का महल गढ़ा है।।

No comments: