m

m
सूर्योदय

Friday, June 19, 2015

अपने ऐशोआराम का इन्तजाम है ’लाल सलाम’


रोते रहे गरीबों पर,
गरीबी पर
फूस की छप्पर पर,
उससे बरसात में टपकते पानी पर
भीगते बिछौने पर
पर जब
खुद का आशियाना बनाने की बात आयी
तो वो छप्पर भी उजाड़ दिया।
रोते रहे भुखमरी पर
गरीबी पर
रोटी की तड़प पर
चूल्हे की बुझती राख पर
पर खुद के जठरानल की शान्ति के लिये
चूल्हा ही उजाड़ दिया॥
ढपली की थाप देकर
गरीबों, असहायों,
शोषितों, पीड़ितों,
दलितों एवं महिलाओं
से कन्धा लेकर,
तुमने खुद को ही उबारा है,
खुद को ही संवारा है।
स्वयं विक्रेता बनकर,
तुमने सबको बाजार में उतारा है॥
गरीबी खत्म करना,
शोषण खत्म करना,
दलितों एवं महिलाओं का
कल्याण करना
कभी तुम्हारा ध्येय न था।
तुम्हारा लक्ष्य था
गरीबी और मजबूरी को बेचना,
अधिक से अधिक उसकी बोली लगवाना,
इसलिये तुम घाव को बढ़ाते रहे,
उसे थपकी देकर रिसाते रहे,
ताकि बाजार में उसके भाव बढ़ें
और तुम मालामाल हो।
न शान्ति है
न क्रान्ति है
न मुक्ति है
कुछ् नहीं है
तुम्हारा "लाल सलाम"।
बस है अपने
एशोआराम का इन्तजाम।


3 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (20-06-2015) को "समय के इस दौर में रमज़ान मुबारक हो" {चर्चा - 2012} पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

सुशील कुमार जोशी said...

सुंदर !

JEEWANTIPS said...

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार...