m

m
सूर्योदय

Tuesday, May 27, 2014

हम कालमेघ बन जायेँ।

लक्ष्म नहीँ लक्ष्मी अब आये,
सरस्वती का हो सम्मान। 
विश्वक्षितिज पर विश्वगुरु बन
भारत का चहुँदिशि गुणगान।। 
दीन दरिद्रता कोसो दूर हो,
 कोई न हमेँ आँख दिखाये। 
अगर मेघ बन कोई छाये तो 
हम कालमेघ बन जायेँ।।

No comments: