m

m
सूर्योदय

Saturday, May 17, 2014

जाग उठा लोकतन्त्र नव-प्राण पाया॥

जनता ने सजाये दिये
गायी प्रभाती
नव विहान आया
कण्ठ-कण्ठ समवेत् हो
मंगलगान गाया।
नव विहान आया।
करने बुझते दीप मे
हर हाथ स्नेहदान आया॥
जाग उठा लोकतन्त्र
नव-प्राण पाया॥

No comments: