m

m
सूर्योदय

Wednesday, May 14, 2014

मतपत्रों से बोल रही वह

जनमन की जो सोच रही वह
अर्गनी पर अबकी न लटकी।
गुलेल की गोली अबकी
फुनगी पर फिरसे न अटकी॥
लौट-लौटकर सिर फोड़ेगी।
वर्षों की जड़ता तोड़ेगी॥
मौन-मुखर जो रहा भाव हो,
निज स्वभाव पट खोल रही वह।
मुँह से बोले न बोले
मतपत्रों से बोल रही वह॥

4 comments:

yashoda agrawal said...

आपकी लिखी रचना शनिवार 17 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (15-05-2014) को बहुत शोर सुनते थे पहलू में दिल का { चर्चा - 1613 } (चर्चा मंच 1610) पर भी है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Kaushal Lal said...

बहुत सुन्दर ....

कविता रावत said...

आईना हैं मतपत्र जिसमें असली चेहरा साफ़ नज़र आता है
........बहुत बढ़िया