m

m
सूर्योदय

Sunday, December 22, 2013

सपनें

कोई सपने बेच रहा है,
कोई रहा खरीद,
दिग्भ्रम में उलझी है जनता,
बनती फिरे मुरीद ॥

No comments: